An effort to spread Information about acadamics

Blog / Content Details

विषयवस्तु विवरण



Paryayavachi Shabd ka Aashay aur Udaharan | पर्यायवाची शब्द का आशय, उदाहरण एवं सूक्ष्म अन्तर

अर्थ के दृष्टिकोण से समानता रखने वाले शब्दों को 'पर्यायवाची शब्द' कहा जाता है। किसी भाषा में पर्यायवाची शब्दों की जितनी बहुलता होगी, वह उतनी ही उच्च कोटि की भाषा मानी जाती है। ये पर्यायवाची शब्द एक ही अर्थ के द्योतक होते हैं। समान अर्थ वाले इन शब्दों का अर्थ होता है 'पर्याय' (बदले में) आने वाला शब्द। इन्हें 'प्रतिशब्द' भी कहा जाता है। संस्कृत भाषा में इन शब्दों की अधिकता है। हिंदी के पर्यायवाची शब्द संस्कृत के तत्सम शब्द हैं, जिन्हें हिंदी भाषा में ज्यों-का-त्यों ग्रहण कर लिया गया है। इन शब्दों में अर्थ की समानता होते हुए भी इनकी प्रयोग एक तरह के नहीं हैं। ये शब्द अपने में इतने पूर्ण हैं कि एक ही शब्द का प्रयोग सभी स्थितियों में और सभी स्थलों पर अच्छा नहीं लगता। कहीं कोई शब्द ठीक बैठता है और कहीं कोई। प्रत्येक शब्द की महत्ता विषय और स्थान के अनुसार होती है। अर्थात् इन शब्दों का अर्थ समान होते हुए भी इनमें सूक्ष्म विविधता होती है। विभिन्न परिस्थितियों, घटनाओं, विशेषताओं, प्रयोग आदि के आधार पर भिन्न-भिन्न नाम रखी जाती हैं, जो एक दूसरे का पर्याय बन जाते हैं। जैसे- 'जल' से तात्पर्य है बिल्कुल स्वच्छ और पवित्र परंतु 'नीर' वह जल है जो देवताओं को चढ़ाने के बाद नीचे गिरा हुआ होता है। 'पानी' का अर्थ है सामान्य जल जो गंदा या स्वच्छ दोनों हो सकता है। इसी तरह 'शिव' के विभिन्न पर्यायवाची पर विचार करते हैं, जो इस प्रकार हैं-
त्रिपुरारि- त्रिपुर के शत्रु होने के कारण नाम
कैलाशति- कैलाश पर्वत पर निवास करने के कारण नाम
शंकर- शम् करने के कारण नाम
जटाधारी- जटा धारण करने के कारण नाम
शिव- कल्याणकारी होने के कारण नाम
नीलकंठ- जहर पान करने से कंठ के नीले हो जाने के कारण नाम
चंद्रशेखर- चोटी पर चंद्रमा धारण करने के कारण नाम
भोला- स्वभाव में निश्छलता के कारण नाम
पार्वति- पार्वती के पति होने के कारण नाम

हिंदी भाषा के प्रमुख पर्यायवाची शब्दों की तालिका नीचे दी जा रही है-
1. अमर- अमर्त्य, अनश्वर, अविनाशी, अक्षय, शाश्वत, मृत्युंजय, दिव्य, अलौकिक, अतींद्रिय, देवता
2. अमृत- सुरभोग, सुधा, अमिय, पीयूष, देवरस, अमी, सोम, आबे-हयात, जीवननोदक, अमित, जीवन
3. अंग- अवयव, अंग-प्रत्यंग, शरीर, अंश, भाग, विभाग, खंड, पक्ष, सहायक, हिस्सा
4. अन्न- अनाज, दाना, धान्य, गल्ला, शालि
5. अंत- अवसान, उपसंहार, इतिश्री, पटाक्षेप, मृत्यु
6. अश्व- घोड़ा, घोटक, हय, बाजि, तुरंग, सैन्धव, तुरग
7. अंधकार- तम, तिमिर, तमिस्त्र, कालिमा, ध्वान्त, अंधेरा
8. अचानक- अकस्मात, अप्रत्याशित, एकाएक, सहसा, संयोगवश
9. अतिथि- पाहुन, मेहमान, अभ्यागत, आगंतुक
10. अधिकार- आधिपत्य, प्राधिकार, पारंगति, हक, दावा, स्वत्व
11. अध्ययन- पढ़ना, प्रेक्षण, अनुशीलन, परिशीलन, निरीक्षण
12. अनंत- असीम, निसीम, अपार, अपरिमित, बेशुमार
13. अनिवार्य- अपरिहार्य, आवश्यक, अवश्यंभावी, जरूरी, लाजिमी
14. अभिप्राय- तात्पर्य, आशय, मंतव्य, प्रयोजन, मतलब, मुराद, इरादा
15. अवनति- पतन, अधोगति, अपकर्ष
16. असाधारण- अप्रतिम, विलक्षण, अपूर्व, अन्यतम, अतुलनीय
17. अनाथ- निराश्रित, आश्रयहीन, बेसहारा, निःसहाय
18. अस्थायी- अस्थिर, क्षणिक, अनित्य, नाशवान, अशाश्वत
19. अहंकार- गुरुर, अकड़, नाज़, गर्व, दर्प, अभिमान, दंभ, घमंड, अहं
20. अनुपम- अतुल, अपूर्व, अनोखा, अद्भुत, अनन्य, न्यारा, अनूठा, अद्वितीय, निरुपम, अनूप, निराला, विलक्षण
21. असुर- निश्चर, मनुजाद, रजनीचर, आशर, रात्रिचर, दैत्य, दानव, निशाचर, तमचर, जातुधान, दमुल, दंतुज, राक्षस, यातुदान, दनुज, इंद्रारि
22. अरण्य- वन, कानन, विपिन, जंगल, प्रांतर, बीहड़, कांतार, अटवी
23. अनल- धूमकेतु, वैश्वानर, पावक, वह्नि, दाहक, कृशानु, अग्नि, हुताशन, जातिवेद, आग, दहन, वायुसखा, ज्वलन, धनंजय, रोहिताश्व
24. अनी- चमू, अनीकिनी, कटक, दल, फौज, सेना, कुमक, सैन्य, वाहिनी, अनुक
25. अच्छा- उत्कृष्ट, श्रेष्ठ, बढ़िया, उत्तम, भला, नेक
26. आँख- अक्षि, नेत्र, नयन, नैन, चक्षु, दृग, लोचन, अंबक, दृष्टि, विलोचन
27. आकाश- खगोल, नभ, गगन, शून्य, अंतरिक्ष, अनंत, व्योम, पुष्कर, अंबर, ख, आसमान, द्युलोक, तारानाथ, द्यौ, अभ्र
28. आभूषण- भूषण, अलंकार, गहना, जेवर
29. आम आम्र, रसाल, चून, अमृतफल, सहकार, अतिसौरभ
30. आनंद- आह्लाद, मोद, सुख, आमोद, हर्ष, प्रसन्नता, प्रमोद
31. आँसू- अश्रु, नेत्रजल, नयनजल, अश्क
32. अंधा- अंध, नेत्रहीन, चक्षुहीन, प्रज्ञाचक्षु
33. आत्मा- प्राण, पुरुष, जीवन, अंतर, हृदय, अंतःकरण, अंतरात्मा, मन, हंस
34. आरंभ- प्रारंभ सूत्रपात, श्रीगणेश, आविर्भाव, इब्तदा, अथ
35. आश्चर्य- अचरज, अचंभा, विस्मय, कुतूहल, करिश्मा, अद्भुत
36. आश्रय- अवलंब, सहारा, छत्रछाया, आधार
37. अंचल- आंचल, सीमा, प्रदेश, पल्ला
38. आधीरात- अर्धरात्र, निशीथ, मध्यरात्रि
39. अपमान- उपेक्षा, अनादर, परिभव, परिभाव, अवज्ञा, रीढ़ा, अवमानना
40. अजगर- शयु, वाहस, सर्पराज, नागराज
41. अभिव्यक्ति- प्रकाशन, प्रकटन, स्कूटीकरण, स्पष्टीकरण
42. आश्रम- मठ, विहार, कुटी, स्तर, अखाड़ा, संघ
43. इच्छा- चाह, अभिलाषा, मनोरथ, कामना, वासना, आकांक्षा, तमन्ना, ख्वाहिश, आरजू, ईप्सा, ईहा, स्पृहा, वांछा
44. इंद्र- देवराज, देवेंद्र, पुरंदर, वासव, शचीपति, सुरपति, मघवा, मेघवाहन, पाकशासन, शक्र, सुरेश, महेंद्र, मधवा
45. ईश्वर- ईश, जगदीश, परमेश्वर, परमात्मा, प्रभु, भगवान, सच्चिदानंद, पिता, जगन्नाथ, जगत्, प्रभु, परमेश, ब्रह्म, पार, भगवान, परब्रह्म, खुदा, मालिक, कर्त्तार, विधि
46. ईर्ष्या- द्वेष, दाह, जलन, मत्सर, रश्क, कुढ़न
47. उचित- समुचित, उपयुक्त, सार्थक, अनुकूल, सटीक, श्रेयस्कर
48. उन्नति- प्रगति, विकास, वृद्धि, उत्थान, उत्कर्ष, उन्नयन, अभ्युदय
49. उद्देश्य- लक्ष्य, ध्येय, साध्य, प्रयोजन, हेतु, इष्ट, अभीष्ट
50. उपकार- भलाई, नेकी, परोपकार, कल्याण, हित

हिन्दी व्याकरण के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।।
1. लिपियों की जानकारी
2. शब्द क्या है

51. उपयोगी- उपादेय, लाभदायक, कारगर, लाभप्रद, मुरीद
52. उपाय- युक्ति, तरीका, तरकीब, यत्न, तदबीर
53. उपस्थित- प्रस्तुत, वर्तमान, मौजूद, हाजिर
54. ऊँचा- उच्च, उर्ध्व, उत्तुंग, उत्ताल, शीर्ष
55. उत्सव- उध्दर्ष, मह, जश्न उद्धव
56. उद्यान- उपवन, वाटिका, बाग, बगीचा, बगिया, आराम
57. एकांत- निर्जन, शून्य, विजन
58. एकता- ऐक्य, एकत्त्व, मेल, संगठन, एका, अभिन्नता
59. ऐश्वर्य- विभूति, भूति, वैभव, संपन्नता, समृद्धि
60. ओस- निहार, तुषार, हिम, प्रालेय, मिहिका पाला
61. कमल- इंदीवर, कोकनद, उत्पल, कुवलय, वारिज, जलज, पंकज, मकरंद, नीरज, अरविंद, पद्म, सरसिज, राजीव, नलिन, पुंडरीक, सरोज, अब्ज, कंज, शतदल, अंबुज, तामरस
62. कपड़ा- आंशुक, अंबर, वस्त्र, चीर, वसन, दुकुल, कर्पट, पट
63. कपि- मर्कट, वानर, कीश, हरि, शाखामृग, बंदर
64. किरण- अर्चि, गो, मयूर, अंशुकर, अंशु, रश्मि, मारीच, मयूखें, प्रभा, मरीचि
65. कामदेव- मनोज, मदन, आनंद, पुष्पधन्वा, रतिपति, कंदर्प, स्मार, मीन, केतन, मार, मन्मथ, अतनु, कुसुमशय, मनसिजा, काम, पंचशर, मीनकेतु
66. किनारा- रोध, प्रतीर, तट, तीर, कगार, कूल, छोर
67. कुबेर- धनधीश, यक्षराज, नरवाहन, धनद, धनाधिप, राजराज, धनराज, धनपति, धनेश, यक्षपति, किन्नरेश
68. कुशल- प्रवीण, दक्ष, पटु, चतुर, क्षेम
69. कृतज्ञ- उपकृत, ऋणी, अनुग्रहित, आभारी, अहसानमंद
70. कृतघ्न- अकृतज्ञ, अहसानफरामोश, नमकहराम
71. कृष्ण- श्याम, घनश्याम, माधव, गिरधर, मुरलीधर, नंदलाल, गोपाल, गोविंद, मधुसूदन, मुकुंद, द्वारिकाधीश, वासुदेव, श्यामसुंदर, यदुनंदन, दामोदर, ब्रजवल्लभ, गोपीनाथ, ऋषिकेश, नंदनंदन, कंसारि, मुरारि, कन्हैया
72. केश- अलके, लटे, कुंतल, कच, बाल, अलक
73. कोयल- कोकिल, कोकिला, बसंतदूत, पिक, श्यामा, आम्रपाली, पाली, काक, काकली, वनप्रिया
74. कोमल- मृदु, मृदुल, सुकुमार, नर्म, मुलायम, नाजुक, मसृण, नरम, अरुक्ष
75. कठिन- कठोर, दुष्कर, दुरुह, दुश्वार, मुश्किल
76. कहानी- कथा, कथानक, गाथा, किस्सा, गल्प, वार्ता
77. कुत्ता- सारमेय, श्वा श्वान, कुक्कुर, शकुन
78. काक- काग, कौआ, काण, वायस, पिशुन, करठ
79. कृपा- अनुकंपा, अनुग्रह, दया
80. क्रोध- रोष, कोप, अमर्ष, आक्रोश, प्रतिघा, गुस्सा
81. कार्तिकेय- महासेन, शनजन्मा, षडानन, स्कंद, गुह
82. कल्याण- शिव, मंगल, शुभ, भद्र, भविक
83. कसम- सौगंध, प्रण, प्रतिज्ञा, शपथ, शपन
84. कीर्ति- यश, ख्याति, समज्ञा
85. कपट- व्याज, दम्भ, उपधि, कैतव, छद्म
86. कीचड़- कर्दम, निषद्वर, जम्बाल, पंक, शाद
87. काई- जलनीली, शेवाल, शैलव, सिंवार
88. कठोर- कर्कश, क्रूर, परुष, निष्ठुर
89. किताब- पुस्तक, ग्रंथ, पोती, विद्यागार
90. कौशल- पटुता, दक्षता, निपुणता, पाटव, नैपुण्य
91. खून- लहू, रक्त, शोणित, रुधिर
92. खग- परिंदा, पक्षी, पंछी, विहग, पखेरू, द्विज, अंडज, शकुंत, पतंग, विहंग, शकुनि
93. खुशी- प्रसन्नता, हर्ष, आनंद, उल्लास, आल्हाद, निशांत
94. गणेश- एकदंत, लंबोदर, संकटमोचन, गजानन, गणपति, मूषकवाहन, गजवदन, विनायक, विघ्ननाशक, भवानीनंदन, महाकाय, विघ्नराज, मोदकप्रिय, मोददाता, द्वैमातुर, गणाधिप, हेरम्ब
95. गंगा- देवनद, भागीरथी, विष्णुपदी, मंदाकिनी, जाह्नवी, त्रिपथगा, सुरनदी, देवनदी, सुरसरित, ध्रवनंदा, देवापागा, सुरसरि, मधुवनी
96. गर्मी- ग्रीष्म, ताप, ऊष्मा, निदाघ, आतक, घाम 97. गदहा- खर, गर्दभ, रासभ, गधा, वैशाखनंदन, धूसर, बेशर, चक्रीवान्, गधा, शसभ, वैष्णव, नंदन
98. गाय- गौ, धेनु, सुरभि, गौरी, सौरमयी, दुग्धी
99. गहरा- गंभीर, गहन, अगाध, अतल, घनिष्ठ
100. गेह- घर, निकेतन, भवन, सदन, आगार, आयतन, आवास, निलय, धाम, गृह, मकान, ओक, अयनशाला, आलय, निवास, बसेरा

हिन्दी व्याकरण के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।।
1. व्याकरण क्या है
2. वर्ण क्या हैं वर्णोंकी संख्या
3. वर्ण और अक्षर में अन्तर
4. स्वर के प्रकार
5. व्यंजनों के प्रकार-अयोगवाह एवं द्विगुण व्यंजन
6. व्यंजनों का वर्गीकरण
7. अंग्रेजी वर्णमाला की सूक्ष्म जानकारी

101. गरुढ़- तार्क्ष्य, वैनतेय, खगेश्वर, नागान्तक, विष्णुरथ, सुपर्ण, पन्नगासन
102. गीदड़- श्रृंगाल, शिवा, नचक, जंबुक, सियार
103. घास- तृण, नरकट, पशुचारा
104. चंद्रमा- मयंक, हिमांशु, सुधांशु, रजनीपति, राकेश, चांद, चंद्र, सुधाकर, शशि, सारंग, निशाकर, निशीपति, मृगांक, कलानिधि, हिमकर, शशांक, मृगाक, इन्दु, विधु, रजनीश, निशानाथ, राकापति, द्विजराज
105. चतुर- कुशल, सुजान, प्रवीण, निपुण, सयाना, दक्ष, विज्ञ, पटु, नागर, चालाक, होशियार
106. चाँदनी- चंद्रिका, ज्योत्सना, कौमुदी, चंद्रप्रभा
107. चोर- तस्कर, दस्यु, रजनीचर, मोषक, कुंभिल, खनक, साहसिक, स्तेन
108. चाँँदी- रूपक, रौप्य, रजत, रूपा
109. चिड़िया- खग, विहग, पक्षी, पंछी, चटका, द्विज, शकुनि, शकुंत, खेचर
110. चूहा- मूषक, आखू, गणेशवाहन
111. छाया- परछाई, प्रतिच्छाया, प्रतिबिंब, छाँव, छाँह
112. छोटा- लघु, क्षुद्र, हीन, सूक्ष्म, गौण, हृश्व
113. छिपना- अंतर्धा, अपवारण, अपिधान, प्रच्छन्न, गुप्त
114. चंदन- श्रीखंड, मलयज, मंगल्य
115. जल- नीर, सलिल, उदक, पानी, अंबु, तोय, वारि, जीवन, पय, अमृत, मेघपुष्प
116. जड़- मूल, आधार, बुनियाद, नीव, अचर
117. जल्दी- क्षिप्र, द्रुत, आशु, शीघ्र, त्वरित, सत्वर, त्वरा, तुरत
118. जादू- माया, इंद्रजाल, तिलस्म, चमत्कार
119. जन्म- जनु, उत्पन्न, जनन, उत्पत्ति, उद्भव
120. झंझट- प्रपंच, झमेला, बवाल, बखेड़ा
121. झंडा- ध्वज, ध्वजा, परचम, पताका, केतन
122. झील- कासार, सरसी, सर, सरस्
123. डाली- टहनी, शाखा, डाल
124. डर- भय, भीति, त्रास, भी, साध्वस
125. तलवार- खड्ग, असि, कृपाण, चंद्रहास, करवाल, खंग
126. तीर- बाण, शर, सायक, शिलीमुख, विशिख, नाराच
127. तालाब- सर, सरोवर, तड़ाग, पुष्कर, जलाशय, पद्माकर, सरसी, कांसार, हँद
128. तोता- रक्त तुण्ड, कीर, सुग्गा, सुआ, शुक, दाड़िम प्रिया
129. तरंग- लहर, लहरी, उर्मि, हिल्लोल
130. तारा- नक्षत्र, तारक, उडु, ऋक्ष, भ, सितारा
131. तमाशा- कौतूहल, कौतुक, कुतुक, कुतूहल
132. थोड़ा- स्तोक, ईषत्, किंचित्, अल्प, न्यून, ऊन
133. दर्पण- शीशा, मुकुर, आईना, आरसी, काँच
134. दिन- अहन्, दिवस, दिवा, वासर, वार, रोज, तिथि, तारीख
135. दीपक- दीप, प्रदीप, दिया, चिराग, शमा
136. दुःख- संकट, शोक, वेदना, यातना, यंत्रणा, खेद, कष्ट, ताप, संताप, क्लेश, गम, पीड़ा, व्यथा
137. दास- अनुचर, चाकर, भृत्यु, किंकर, परिचारक, सेवक, नौकर, भृत्य, चेर
138. दुर्गा- अंबालिका, भवानी, कुमारी, कल्याणी, अंबा, अंबिका, सिंहवाहिनी, शूल धारिणी, चंद्रघंटा, चंद्रिका, महिषासुर मर्दिनी, चंडिका, वागीश्वरी, घात्री
139. देवता- सुर, अजर, अमर, विवुध, त्रिदश, देव
140. द्रव्य- वैभव, अर्थ, विभव, वसु, धन, संपत्ति, संपदा, वित्त, विभूति, दौलत
141. दूध- दुग्ध, पय, क्षीर, गोरस
142. दया- अनुकंपा, करूणा, कृपा, प्रसाद
143. दावानल- दाव, दव, दावाग्नि, वनहुताशन
144. दासी- नौकरानी, परिचारिका, सेविका, भृत्या
145. धूप- द्योत, आतप, घाम, त्विष, भा
146. धनुष- कमान, कामुर्क, कोदंड, चाप, धनु
147. धनंजय- अर्जुन, पार्थ, गांडीवधारी, सव्यसाची, कृष्णसखा, कौन्तेय
148. दाँत- दन्त, द्विज, रद, दशन, रतन
149. ऊँट- उठटू, क्रमेल, क्रमेलक
150. जिह्वा- रसना, जीभ, जबान
151. धरती- पृथ्वी, मेदिनी, वसुधा, वसुंधरा, धरा, भू, उर्वी, मही, धरणी, धरित्री, भूमि, इला, भूमि
152. नदी- सरिता, तटिनी, तरंगिनी, सलिला, आपगा, तरंगिणी, स्त्रोतस्विनी, निम्नगा, निर्झरिणी, कूलंकषा
153. नया- नवीन, नव, नूतन, नव्य, नवल, अर्वाचीन
154. नम्र- विनम्र, विनीत, विनायी, प्रणत, विनय, शिष्ट
155. नरक- यमलोक, जमपुर, रसातल, जहन्नुम, निरय, दोज़ख, यमपुरी, नर्क
156. नारी- कलत्र, कांता, ललना, अंगना, वनिता, कामिनी, रमणी, महिला, स्त्री
157. नौका- जलयान, जलपात्र, बेड़ा, पतंग, नैया, तरणि, नाव, डोंगी, तरी, तरिणी, जलपतंग
158. नियम- सिद्धांत, विधि, कायदा-कानून, ढंग
159. नर- मनुष्य, पुरुष, मनुज
160. नींद- निद्रा, शयन, स्वाप, स्वप्न, संवेश
161. पत्नी- धर्मपत्नी, कांता, प्रिया, वल्लभा, प्रियतमा, भार्या, स्त्री, वामा, दारा, जाया, अर्धांगिनी, गृहणी, बहू, वधू, कलत्र, प्राणप्रिया
162. पति- भर्ता, कांत, वल्लभ, भर्तार, शौहर, स्वामी, खाविन्द, प्राणेश, भरतार, आर्यपुत्र, आर्य, ईश, साईं
163. पर्वत- भूधर, शैल, महीधर, अचल, गिरि, पहाड़, नग, भूमिधर, तुंग, अद्रि
164. पत्थर- प्रस्तर, पाषाण, उपल, पाहन,अश्म, शिला 165. पुत्र- कुमार, नंदन, पूत, तनय, तनूज, सुत, आत्मज, बेटा, तनुज, लड़का
166. पुत्री- लाडली, तनया, तनुजा, सुता, कुमारी, कन्या, आत्मजा, बेटी, दुहिता, नंदिनी
167. पुष्प- फूल, कुसुम, पहुप, सुमन, प्रसून, पुहुप
168. पवित्र- शुचि, निर्मल, विमल, अमल, पावन, शुद्ध
169. पथिक- राही, राहगीर, बटोही, पंथी, यात्री, मुसाफिर, बटाऊ
170. पाप- पाप्मा, किल्विष, कल्मष, कलुष, वृजिन, अघ, अधर्म, अध, अपकर्म, दुष्कर्म, कुकर्म, पातक, पंक
171. पुराना- पुरातन, पुरा, विगत, अतीत, प्राचीन
172. पूज्य- पूजनीय, वंदनीय, श्रद्धेय, मान्यवर, सम्मानीय
173. प्रकाश- भा, रुचि, आलोक, ज्योति, प्रभा, विभा, आभा, कांति, द्युति
174. प्रणाम- नमस्कार, नमन, अभिवादन, सलाम, आदाब
175. पादप- गाछ, दरख्त, अगम, वृक्ष, विटप, द्रुम, पेड़, तरु, तरुवर
176. पंडित- विप्र, विद्वान, द्विज, ब्राह्मण, प्राज्ञ, विचक्षण, कोविद्, मनीषी, प्रबुद्ध, सुधी, बुध, धीर
177. प्रभात- प्रातः, भोर, निशांत, सुबह, अरुणोदय, प्रातःकाल, प्रत्युष, सबेरा, बिहान, उषा
178. प्रिय- प्यारा, प्राणधन, प्राणेश्वर, प्राणाधार
179. प्रिया- प्राणेश्वरी, प्यारी, हृदयेश्वरी
180. प्रेम- प्रणय, स्नेह, प्रीति, राग, मोह, अनुराग, सख्य, प्यार, रति, नेह
181. पवन- हवा, समीर, मारुत, वात, बयार, प्रकंपन, समीरन, समीरण, वायु, मलय, प्रभंजन, अनिल
182. पार्वती- शैलसुता, गिरिजा, गौरी, अपर्णा, उमा, कात्यायनी, काली, शिवा, भवानी, रुद्राणी, शर्वाणी, अशना, पर्वतपुत्री
183. पिता- जनक, बाप, पितृ, तात, जन्मदाता, बापू, बाबूजी
184. पत्ता- दल, पर्ण, पल्लव
185. पुण्य- श्रेय, सुकृत, वृष, धर्म
186. प्राणी- चेतन, जन्मी, जंतु, शरीरी, जीव, जीवधारी
187. बिजली- विद्युत्, चंचला, छपरा, चपला, क्षणप्रभा, सौदामिनी, दामिनी, तड़ित, बीजुरी
188. ब्रह्मा- विधाता, विधि, चतुरानन, प्रजापति, पितामह, सृष्टिकर्ता, आत्माभू, स्वयंभू, हिरण्यगर्भ, लोकेश
189. बड़ा- विशाल, वृहद, विराट, महा, महान, विस्तृत
190. बहुत- अति, अत्यंत, अत्यधिक, अतिशय, अतीव, परम, पुष्कल
191. बुद्धि- मति, मेधा, धी, प्रज्ञा, प्रेक्षा, चेतना, विचक्षण, अक्ल, मनीषा
192. बाण- तीर, शर, विशिख, आशुग, शिलीमुख, इषु, नाराच
193. बाघ- चित्रक, शार्दूल, व्याघ्र
194. बिल- कुहर, शुषिर, विवर, छिद्र, वपा
195. बादल- बलाहक, अंबुद, वारिधर, पयोद, अभ्र, मेघ, वारिवाह, धाराधर, नीरद, जलधर, वारिद, घन, जीमूत, जलद, पयोधर
196. बलदेव- बलभद्र, बलराम, हलधर, रेवतीरमण, कामपाल, हलयुध, नीलांबर, दाऊ
197. भूपति- महीप, महीपति, नरपति, नरेश, राव, सम्राट्, राजा, नृपति, नरेंद्र, नृप, नृपाल, महेश, भूप 198. भाग्य- विधि, नियति, प्रारब्ध, दैव, भक्तिव्य, किस्मत, नसीब
199. भौंरा- भ्रमर, मधुप, द्विरेफ, अलि, चंचरीफ, भृंग, मधुकर, षडपद्, भंवर

हिन्दी व्याकरण के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।।
1. शब्द क्या है- तत्सम एवं तद्भव शब्द
2. देशज, विदेशी एवं संकर शब्द
3. रूढ़, योगरूढ़ एवं यौगिकशब्द
4. लाक्षणिक एवं व्यंग्यार्थक शब्द
5. एकार्थक शब्द किसे कहते हैं ? इनकी सूची
6. अनेकार्थी शब्द क्या होते हैं उनकी सूची
7. अनेक शब्दों के लिए एक शब्द (समग्र शब्द) क्या है उदाहरण

200. मछली- मीन, शफरी, झख, झष, मत्स्य, सफरी, जलजीवन
201. महादेव- पार्वति, भोला, महेश्वर, शंभु, गिरीश, हर, त्रिलोचन, रुद्र, पशुपति, भूतनाथ, भूतेश, शंकर, चंद्रशेखर, नीलकंठ, शिव, ईश, भव त्रिपुरारि, नीलकंठ, जटाधारी
202. मनुष्य- मानव, मनुज, मानुष, व्यक्ति, जन, आदमी, इंसान 203. मृत्यु- मौत, मरण, अंत, निधन, प्राणांत, काल, स्वर्गवास, अवपात, निर्वाण
204. मूर्ख- मूढ़, जड़बुद्धि, मंदबुद्धि, अहमक, पाजी, बेवकूफ, जड़, निर्बुद्धि, अज्ञानी, अज्ञ, अबोध
205. मौलिक- मूलभूत, आधारभूत, बुनियादी, तात्विक, अभिनव
206. मित्र- मीत, सखा, संगी, साथी, दोस्त, सहचर, हमराज, सुहृद
207. माता- माँ, जननी, अंबा, प्रसू, मातृ, मातेश्वरी, धात्री
208. मुनि- अवधूत, सन्यासी, यति, बैरागी, योगी, तापस, संत, भिक्षु, महात्मा, साधु, मुक्तपुरुष, ऋषि
209. मद- मदिरा, सुरा, वारुणी, शराब, सोम, हाला, मद्य, दारू
210. मेंढक- भेक, दादुर, मंडूक, शालूर, वर्षाभू
211. मोर- केकी, शिरवी, शिव-सुत-वाहन, मयूर, मेहप्रिय, नेहानृत्तक, महनर्तक, पक्षिराज
212. मुक्ता- मोती, सीपिज, मौक्तिक
213. मुर्गा- ताम्रचूड़, कुक्कुट, उपाकर
214. मिथ्या- असत्य, अनृत, झूठ
215. मोक्ष- मुक्ति, कैवल्य, निर्वाण, अपवर्ग, परमधाम
216. मुँह- मुख, आस्य, वक्त्र, वदन, आनन, तुण्ड
217. मल्लाह- कैवर्त, दाश, धीवर, केवट
218. मन- चित्त, चेत, हृदय, स्वावंत, मानस
219. यमुना- सूर्यसुता, सूर्यतनया, कालिंदी, अर्कजा, शमनस्वसा, कृष्णा, तरनि-तनूजा, रवि-तनया, जमुना
220. युवती- तरुणी, किशोरी, श्यामा
221. यमराज- प्रेतराट्, धर्मराज, पितृपति, कृतान्त, शमन, यम, काल, दण्डधर
222. द्रौपदी- कृष्णा, द्रुपद-सुता, याज्ञसेनी, पांचाली
223. रात- रात्रि, विभावरी, रैन, क्षपा, निशि, शर्बरी, यामिनी, निशा, रजनी, त्रियामा, क्षणदा, तमी
224. रमा- लक्ष्मी, श्री, कमला, कमलासना, सिंधुसुता, चंचला, पद्मा, हरिप्रिया, भार्गवी, इंदिरा, श्रीदेवी, विष्णुप्रिया, धनदेवी
225. रण- युद्ध, संग्राम, समर, लड़ाई, आहव
226. रावण- दशकंध, दशशीस, दशानन
227. राधिका- वृषभानुजा, ब्रजरानी, राधा
228. राख- भूति, भस्म, क्षार, भसित
229. लोह- आयस, सार, लोहा
230. लहर- तरंग, वीचि, हिलोर
231. लगातार- सतत, अनवरत, अश्रांत, अभिराम, अविरत, नित्य
232. लाल- अरुण, लोहित, रोहित, रक्तवर्ण
233. लज्जा- लाज, शर्म, हया, व्रीडा, त्रण, मन्दाक्ष
234. वसंत- ऋतुराज, बसंत, मधुमास, मधुऋतु
235. वाणी- सरस्वती, भारती, गिरा, जीह्वा, वचन, वाक
236. विद्यालय- विद्यापीठ, पाठशाला, मदरसा, अध्ययन शाला
237. विष्णु- केशव, चक्रपाणि, दामोदर, नारायण, लक्ष्मीपति, गरुड़ध्वज, अच्युत, जनार्दन, विश्वंभर, मुकुंद, हृषिकेश, माधव, गोविंद, विभु, विश्वरुप, पीतांबर
238. विष- कालकूट, हलाहल, गरल, काकोल, क्ष्वेड, दरिद, जहर
239. वज्र- कुलिश, भिदुर, पवि, शतकोटि,अशनि
240. शंका- आशंका, संदेह, संशय, अंदेशा, शक
241. शक्ति- बल, सत्ता, प्राधिकार, अधिकार, क्षमता
242. शत्रु- रिपु, अरि, बैरी, विरोधी, प्रतिपक्षी
243. शिक्षा- सीख, शिक्षण, तालीम, उपदेश, नसीहत
244. शरीर- देह, गात, दिन, कलेवर, तनु, तन, गात्र, घट
245. श्वेत- शुभ्र, धवल, सित, सफेद
246. शारदा- सरस्वती, वीणापाणि, भारती, ब्राह्मी, भाषा, वाक्, गिरा, वागीशा, वाणी, गी
247. शेर- पंचमुख, मृगराज, वनराज, केशी, हरि, केशरी, महावीर, नाहर, पशुराज, गजेंद्र, व्याध्र, मृगेंद्र, केहरि, पंचानन, सिंह, शार्दूल, व्याघ्र
248. शब्द- निनाद, नाद, ध्वनि, आवाज़, निर्घोष
249. समुद्र- समंदर, सिंधु, अब्धि, वारीश, जलधाम, नीरधि, वारिधि, सागर, जलधि, उदधि, सिंधु, रत्नाकर, पयोनिधि, पारावार, नीरनिधि, नदीश, पयोधि, अर्णव
250. सर्प- साँप, भुजंग, अहि, व्याल, उरग, विषधर, पन्नग, फणी, नाग, चक्षुश्रवा, काकोदर

251. सोना- कंचन, कनक, स्वर्ण, सुवर्ण, हाटक, हेम, कलधौत, हिरण्य, जातरूप
252. सूर्य- रवि, दिनकर, भास्कर, प्रभाकर, दिनेश, मार्तंड, आदित्य, दिनमान, अंशुमाली, भानु, विभाकर, सविता, मरीची, पतंग, दिवाकर, हंस
253. स्वर्ग- सुरलोक, देवलोक, इंद्रलोक, दिवि, द्यौ, जन्नत, नाक, द्युलोक
254. समूह- समुदाय, दल, वर्ग, वृंद, गण, मंडल, निकाय, संघ, पुंज, झुंड, मंडली, टोली, जत्था
255. सुंदर- रम्म, रमणीय, सुरम्य, अभिराम, मनोहर, सुहावन, मनोज, चारु, मंजुल, ललित, कलित, लोल, रुचिर, सुहावना, रमणीक, चित्ताकर्षक
256. संकल्प- निश्चय, इरादा, विचार, प्रण, प्रतिज्ञा, व्रत
257. संकेत- चिन्ह, इशारा, निर्देश, लक्ष्य, सुझाव
258. संध्या- साँझ, शाम, सायं, दिनांत, दीवांत, गोधूलि
259. संपूर्ण- समस्त, समग्र, सब, सभी, सर्व, सकल, समूचा
260. संसार- सृष्टि, संसृति, सर्ग, जग, जगत्, जगती, लोक, विश्व
261. समर्थक- पक्षधर, पक्षपोषक, हिमायती, अनुयायी, अनुगामी
262. समय- वक्त, युग, जमाना, अवकाश, बेला, काल, समा
263. सम्मान- मान, आदर, समादर, प्रतिष्ठा, साख, मान मर्यादा
264. सुंदरी- रूपसी, रमणी, सुदर्शन, गोरी
265. समीप- आसन्न, निकट, सन्निकट
266. सब- सभी, सर्व, निखिल, सकल, अखिल
267. समाचार- वार्ता, संदेश, खबर, वृतांत
268. स्तुति- प्रार्थना, विनती, आराधना, विनय, वंदना
269. सत्य- तथ्य, अनृत, नृत, ऋत, यथार्थ, ध्रुव, सच
270. स्वीकार- आगू, प्रतिज्ञान, अंगीकार, आत्मसात

हिन्दी व्याकरण के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।।
1. 'ज' का अर्थ, द्विज का अर्थ
2. भिज्ञ और अभिज्ञ में अन्तर
3. किन्तु और परन्तु में अन्तर
4. आरंभ और प्रारंभ में अन्तर
5. सन्सार, सन्मेलन जैसे शब्द शुद्ध नहीं हैं क्यों
6. उपमेय, उपमान, साधारण धर्म, वाचक शब्द क्या है.
7. 'र' के विभिन्न रूप- रकार, ऋकार, रेफ
8. सर्वनाम और उसके प्रकार

271. समाधान- अवधान, प्राणिधान, उपाय, निदान
272. हिमगिरी- हिमाद्रि, हिमवान, हिमालय, गिरिराज, हिमाचल, नगेंद्र, शैलेंद्र, गिरीश
273. हंस- मराल, सूर्य, आत्मा, मानस, कलहंस
274. हिरण- कुरंग, मृंग, सारंग, सुरभी
275. हाथी- गज, मतंग, नाग, दन्ती, कुंजर, हस्ती, गजेंद्र, गजराज
276. हनुमान- पवनकुमार, पवनसुत, बजरंगी, मारुति
277. हाथ- हस्त, कर, पाणि
278. रानी- राज्ञ, राज्ञी, पटरानी, महिषी, राजरानी
279. वर्षा- बरखा, बरसात, वरषा, मेघजल
280. सीता- जानकी, जनकसुता, जनकनंदिनी, रामप्रिया
281. पराग- किंजल्क, मकरंद, मधु, पुष्पराज, पुष्परेणु
282. उपचार- इलाज, चिकित्सा
283. ओष्ठ- अधर, होठ, रद-पट
284. कंदरा- गुफ, गुहा, खोल, गहवर
285. कोष- खजाना, भंडार, निधि
286. मुकुट- ताज, किरीट, सिरताज
287. वीर- शूर, योद्धा, सूरमा, पराक्रमी

इस 👇 बारे में भी जानें।
1. परिचय का पत्र लेखन

आशा है, हिंदी व्याकरण से संबंधित "पर्यायवाची प्रकरण" आपको परीक्षा की दृष्टि से बहुत ही महत्वपूर्ण एवं उपयोगी लगा होगा।
धन्यवाद।
R.F. Temre
infosrf.com

I hope the above information will be useful and important.
(आशा है, उपरोक्त जानकारी उपयोगी एवं महत्वपूर्ण होगी।)
Thank you.
R F Temre
infosrf.com

Watch video for related information
(संबंधित जानकारी के लिए नीचे दिये गए विडियो को देखें।)

Watch related information below
(संबंधित जानकारी नीचे देखें।)



  • Share on :

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

आधुनिक काल (सन् 1843 स अब तक) भारतेंदु युग, द्विवेदी युग, छायावादी युग, प्रगतिवाद, प्रयोगवाद, नई कविता

हिन्दी साहित्य का इतिहास - आधुनिक काल (सन् 1843 स अब तक) भारतेंदु युग, द्विवेदी युग, छायावादी युग, प्रगतिवाद, प्रयोगवाद, नई कविता का युग।

Read more

भक्ति काल (सन् 1318 से 1643 ई. तक) || हिन्दी पद्य साहित्य का इतिहास || Hindi Padya Sahitya - Bhakti Kal

भक्ति काव्य धारा - [१] निर्गुण-भक्ति काव्य-धारा। (अ) ज्ञानाश्रयी निर्गुण भक्ति काव्य-धारा। (ब) प्रेंमाश्रयी निर्गुण-भक्ति काव्य-धारा। [२] सगुण भक्ति काव्य-धारा (अ) कृष्ण भक्ति धारा (ब) राम भक्ति धारा।

Read more

Follow us

Catagories

subscribe