An effort to spread Information about acadamics

Blog / Content Details

विषयवस्तु विवरण



व्याकरण क्या है? What is GRAMMAR?

'व्याक्रियते भाषा अनेन इति व्याकरणम'।
अर्थात जिस विद्या से भाषा की व्याख्या अर्थात उसका विश्लेषण होता है, उसे व्याकरण कहते हैं। व्याकरण किसी भाषा को बोलने या लिखने की रीति को बताता है।

कामता प्रसाद गुरु के अनुसार-
"जिस शास्त्र में शब्दों के शुद्ध रूप और प्रयोग के नियमों का निरूपण होता है, उसे व्याकरण कहते हैं।"

व्याकरण के द्वारा किसी भाषा को शुद्ध लिखना, शुद्ध बोलना, सही समझना सरल हो जाता है। इसलिए किसी भी भाषा को जानने, समझने के लिए व्याकरण का ज्ञान आवश्यक है।

◆भाषा क्या है?

भाषा शब्द संस्कृत की 'भाष' धातु से बना है इसका अर्थ है 'बोलना' या 'कहना' अर्थात भाषा वह साधन है जिसे बोला जाए।

डॉ.उमेशचंद्र शुक्ल के अनुसार:-

"जिसकी सहायता से मनुष्य पर विचार विनिमय या सहयोग करते हैं, उस यादृच्छिक रूढ़ ध्वनि-संकेतों की प्रणाली को भाषा कहते हैं।"

◆ भाषा का गठन :- अक्षर, शब्द एवं वाक्य ये तीनों ही किसी भाषा के मूल आधार हैं, क्योंकि भाषा- वाक्यों से मिलकर बनती है, वाक्य- शब्दों से मिलकर बनते हैं एवं शब्द- अक्षरों के योग से निर्मित होते हैं। अतः उपरोक्त भाषा के गठन के आधार पर व्याकरण के तीन अंग ठहरते हैं।

1. वर्ण
2. शब्द
3.वाक्य
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■ ●What is grammar?●

◆ 'Vyakryate Bhasha Anen Iti Vyakaranam'.
That is, the method by which the language is interpreted or analysed, it is called grammar. Grammar refers to the manner of speaking or writing a language.

According to Kamta Prasad Guru :-

"The scripture which represents the pure form of words and the rules of use are called grammar."

Through grammar, it becomes becomes easy to write a language pure, speak pure, understand it correctly. Therefore, to know and understand any language, knowledge of grammar is necessary.

◆What Is The Language :-

The word Bhasha (language) is derived from the 'Bhash' (linguistic) Dhatu (Root word) of Sanskrit. It means to speak or say, ie language is the means to speak.

According to Dr Umesh Chandra Shukla :-

"Language is the system of ramdom stereotyped sound signals with the help of which humans exchange ideas or co-operate."

◆ Formation of Language :-

These three, letters, words and sentences are the basic basis of language, because Language- is made up of sentences, Sentences- are made up of words and Words- are formed by the sum of letters.

Therefore, depending on the formation of the above language, there are three parts of grammar-

1. Letters 2. Words 3. Sentences

RF compe tition
infosrf

I hope the above information will be useful and important.
(आशा है, उपरोक्त जानकारी उपयोगी एवं महत्वपूर्ण होगी।)
Thank you.
R F Temre
infosrf.com

Watch video for related information
(संबंधित जानकारी के लिए नीचे दिये गए विडियो को देखें।)

Watch related information below
(संबंधित जानकारी नीचे देखें।)



Download the above referenced information
(उपरोक्त सन्दर्भित जानकारी को डाउनलोड करें।)
Click here to downlod

  • Share on :

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

आधुनिक काल (सन् 1843 स अब तक) भारतेंदु युग, द्विवेदी युग, छायावादी युग, प्रगतिवाद, प्रयोगवाद, नई कविता

हिन्दी साहित्य का इतिहास - आधुनिक काल (सन् 1843 स अब तक) भारतेंदु युग, द्विवेदी युग, छायावादी युग, प्रगतिवाद, प्रयोगवाद, नई कविता का युग।

Read more

भक्ति काल (सन् 1318 से 1643 ई. तक) || हिन्दी पद्य साहित्य का इतिहास || Hindi Padya Sahitya - Bhakti Kal

भक्ति काव्य धारा - [१] निर्गुण-भक्ति काव्य-धारा। (अ) ज्ञानाश्रयी निर्गुण भक्ति काव्य-धारा। (ब) प्रेंमाश्रयी निर्गुण-भक्ति काव्य-धारा। [२] सगुण भक्ति काव्य-धारा (अ) कृष्ण भक्ति धारा (ब) राम भक्ति धारा।

Read more

Follow us

Catagories

subscribe