An effort to spread Information about acadamics

Blog / Content Details

विषयवस्तु विवरण



एकार्थक शब्द किसे कहते हैं | akarthi shabdon ke udaharan

एकार्थी या एकार्थक शब्द-

ऐसे शब्द जिनका साधारणतः एक ही अर्थ होता है, कोई दूसरा अर्थ प्रकट नहीं होता ऐसे शब्दों को एकार्थी शब्द कहते हैं।

टीप- व्यक्तिवाचक संज्ञाएँ इस प्रकार के शब्दों के अच्छे उदाहरण है।

उदाहरण-

(क) मनुष्यों के नाम- कमला, राधा, राम, मोहन आदि।
(ख) देशों के नाम- भारत, चीन, अमेरिका आदि।
(ग) नगरों के नाम- मुंबई, लंदन, दिल्ली, पेरिस आदि।
(घ) गाँवों व कस्बों के नाम- मेहरा पिपरिया, बालाघाट आदि।

(ङ) पहाड़ों के नाम- विंध्याचल, हिमालय, राकीज आदि।
(च) नदियों के नाम- गंगा, सिंधु, ब्रह्मपुत्र, नील आदि।
(छ) महीनों के नाम- चैत्र, वैशाख, जनवरी, रमजान आदि।
(ज) दिनों के नाम- सोमवार, संडे, मंगलवार आदि।

(झ) उपाधियों के नाम- निराला, रत्नाकर, प्रभात आदि।
(ञ) कलाएँ- संगीत, वास्तुकला, साहित्य, काव्य आदि।
(ट) विद्याएँ व विषय- इतिहास, गणित, भूगोल आदि।

(ठ) भाषाएँ- अंग्रेजी, हिंदी, उर्दू, अरबी आदि।
(ड) बीमारियाँ- पक्षाघात, हैजा, मलेरिया फ्लू आदि।
(ढ) परिभाषिक शब्द- हाइड्रोजन, धमनी, तापमान, दुग्धमापी, निःश्वासन, चिकित्सा, चलचित्र, भौतिकी, प्रतिवादी, पैमाना, अभियोग, न्यायधीश, अपराध आदि

इन शब्दों के अतिरिक्त ऐसे अनेक सैकड़ों शब्द है जिनका केवल एक ही अर्थ है–

जैसे- बोतल, रेडियो, पेंसिल, किताब, कुर्सी, दरवाजा, दीवार, मिट्टी, पंखा, ईट, लाल, पीला, तकिया, पलंग, फोन, बिजली आदि।

हिन्दी व्याकरण के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।।
1. व्याकरण क्या है
2. वर्ण क्या हैं वर्णोंकी संख्या
3. वर्ण और अक्षर में अन्तर
4. स्वर के प्रकार
5. व्यंजनों के प्रकार-अयोगवाह एवं द्विगुण व्यंजन
6. व्यंजनों का वर्गीकरण
7. अंग्रेजी वर्णमाला की सूक्ष्म जानकारी

टीप- एकार्थक शब्द परिस्थिति विशेष के लिए ही प्रयुक्त होते हैं। जैसे- आयु, अवस्था, अपराध, छाप, अस्त्र-शस्त्र, आदि, इत्यादि, ईर्ष्या, द्वेष, स्पर्द्धा, निधन, मृत्यु, खेद, दुख, शोक, गर्व, दम्भ, ग्लानि, लज्जा, नायिका, अभिनेत्री, तट, तीर, प्रेम, स्नेह, प्रणय, पुरूष्कार, पारितोषिक, पत्नि, स्त्री, महिला, नारी, यंत्र, यातायात, सेवा, सुश्रुषा, समीर, पवन, गोष्ठी, सभा, साहस, वीरता आदि।

हिन्दी व्याकरण के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।।
1. लिपियों की जानकारी
2. शब्द क्या है- तत्सम एवं तद्भव शब्द
3. देशज, विदेशी एवं संकर शब्द
4. रूढ़, योगरूढ़ एवं यौगिकशब्द
5. लाक्षणिक एवं व्यंग्यार्थक शब्द

उपरोक्त शब्दों का वाक्य में प्रयोग कर देखते हैं कि अंतर कितना है-

(i) आयु- मोहन ने 80 वर्ष की आयु प्राप्त की।
(ii) अवस्था- मेरी अवस्था 42 वर्ष है।
यहाँ पहले वाक्य में आयु सम्पूर्ण जीवन (जन्म से मृत्यु तक) को दर्शाती है जबकि दूसरे वाक्य में अवस्था शब्द जीवन व्यतीत करने का कुछ समय व्यक्त करता है।

(iii) अपराध- अपराध करने वाले को सजा अवश्य मिलेगी।
(iv) पाप- साधु का अपमान कर उसने पाप किया है।

(v) अस्त्र-शस्त्र- युद्ध में अस्त्र-शस्त्र बहुत उपयोगी होते हैं।
(vi) औजार- बढ़ई बिना औजार के कैसे काम करेगा?

(vii) आदि- गीता ने उसे काफी, पुस्तक, पेन आदि दे दी।
(viii) इत्यादि- हमने बाजार से आलू, गहने, कपड़े, बर्तन इत्यादि खरीदें।
(अनेक तरह की वस्तुएँ के उदाहरणों हेतु प्रयुक्त होता है।)

इस 👇 बारे में भी जानें।
आदि और इत्यादि में अन्तर

(ix) ईर्ष्या- हमें किसी की ईर्ष्या नहीं करना चाहिए। (दूसरे की प्रगति देखकर बुरा जलना।)
(x) द्वेष- पाकिस्तान हमसे द्वेष रखता है। (दूसरों की प्रगति से शत्रुता रखना)
(xi) स्पर्धा- बालकों में स्पर्धा चल रही है। (दूसरों को बढ़ता देख स्वयं बढ़ने की इच्छा रखना।)

(xii) निधन- मध्य प्रदेश के भूतपूर्व राज्यपाल राम नरेश यादव का निधन हो गया। (किसी महापुरुष या नेता का स्वर्गवास।)
(xiii) मृत्यु- हमारे पड़ोसी की मृत्यु हो गई। (जनसाधारण में किसी का स्वर्गवास)

(xiv) खेद- कल राधिका ने कमला को कुछ ऐसी बातें कह दी, जो उसे नहीं कहना चाहिए था, इसलिए आज वह खेद प्रकट करने आई है। (मन से संबंधित अपनी भूल पर प्रयुक्त)
(xv) दुःख- नेताजी की हार से कार्यकर्ताओं को गहरा दुःख हुआ। (तन व मन से संबंधित)
(xvi) शोक- माँ को अपने पुत्र के फेल होने का बड़ा शोक हुआ। (किसी प्रिय के अनिण्ट पर )

इस 👇 बारे में भी जानें।
दुख, कष्ट, पीड़ा, वेदना, व्यथा, विषाद, संताप, शोक, दर्द, खेद में अंतर

(xvii) गर्व- हमें अपने देश पर गर्व है। (विद्या, ताकत, धन आदि के कारण बड़ा महत्व देना)
(xviii) दम्भ- उसमें दम्भ भरा है। (किसी तरह से भी ज्यादा योग्यता न होते हुए बड़ा समझना।)

(xix) ग्लानि- अभद्र व्यवहार की उसे बड़ी ग्लानि हुई। (अकेले में किसी कार्य की भूल का पश्चाताप)
(xx) लज्जा- आजकल लड़कियों को लज्जा नहीं आती। (बेहूदे कार्य पर शर्म)

(xxi) नायिका- ' दीपदान ' एकांकी की नायिका धाय माँ है।
(xxii) अभिनेत्री- शोले फिल्म की अभिनेत्री हेमा मालिनी ने बहुत अच्छा अभिनय किया है।
(नायिका का आशय कहानी या नाटक का पात्र, अभिनेत्री का अशय किसी किरदार का अभिनय करना।)

(xxiii) तट- तट पर बैठे-बैठे लहरे देखना पसंद है। (नदी या तालाब के किनारे की जमीन)
(xxiv) तीर- यमुना के तीर पर बहुत सी गोपीकाएँ खड़ी थी। (नदी के जल से स्पर्श जमीन)

(xxv) प्रेंम- हमें अपने बच्चों से प्रेंम है।
(य) स्नेह- माँ अपने बेटे से ज्यादा स्नेह रखती है। (छोटों के प्रति प्रेम)
(xxvi) प्रणय- राधा का कृष्ण जी से प्रणय हुआ था। ( दाम्पत्य प्रेम)

(xxvii) पुरुस्कार- उससे समाज सेवा का पुरुस्कार मिलना चाहिए। (कोई बड़े कार्य पर)
(xxviii) पारितोषिक- कुर्सी दौड़ में प्रथम आने पर काव्य प्रवाह को पारितोषिक दिया गया। (छोटे स्तर पर)

हिन्दी व्याकरण के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।।
1. 'ज' का अर्थ, द्विज का अर्थ
2. भिज्ञ और अभिज्ञ में अन्तर
3. किन्तु और परन्तु में अन्तर
4. आरंभ और प्रारंभ में अन्तर
5. सन्सार, सन्मेलन जैसे शब्द शुद्ध नहीं हैं क्यों

(xxix) पत्नी- कमला तो रामलाल की पत्नी है। (व्यक्तिविशेष की स्त्री)
(xxx) स्त्री- स्त्री का स्वभाव कोमल होता है। (कोईभी स्त्री)
(xxxi) महिला- महादेवी वर्मा एक विदुषी महिला है। (कोई विशिष्ट स्त्री)
(xxxii) नारी- सभी नारी एक जैसी नहीं होती। (समूहवाचक रूप में)

(xxxiii) यंत्रणा या याताना- जेल की यंत्रणा बहुत भयानक होती है।
(xxxiv) सेवा- माता पिता की सेवा परम दायित्व है।
(xxxv) सुश्रुषा- रोगियों की अच्छी सुश्रुषा हो रही है।

(xxxvi) समीर- रात्रि को जल समीर चलते हैं। (विशाल वायु राशि)
(xxxvii) पवन- ठंडी पवन के झोंके सुहाने लगते हैं। (क्षेत्र विशेष में चलने वाली वायु)

(xxxviii) गोष्ठी- सिवनी में आज रात काव्य गोष्ठी है।
(xxxviii) सभा- श्री नरेंद्र मोदी ने सभा को संबोधित किया।

(xxxix) साहस- भारतीय सैनिकों का साहस देखते ही बनता है।
(xL) वीरता- सूर्यवीर की वीरता युद्ध में पहचानी जाती है।

इस 👇 बारे में भी जानें।
परिचय का पत्र लेखन

आशा है, हिंदी व्याकरण से संबंधित यह लेख आपको काफी उपयोगी और ज्ञानवर्धक लगा होगा।
और, व, एवं, तथा शब्दों में अन्तर जानने के लिए नीचे 👇 के वीडियो को अवश्य देखें।
धन्यवाद।

RF Temre
infosrf.com

I hope the above information will be useful and important.
(आशा है, उपरोक्त जानकारी उपयोगी एवं महत्वपूर्ण होगी।)
Thank you.
R F Temre
infosrf.com

Watch video for related information
(संबंधित जानकारी के लिए नीचे दिये गए विडियो को देखें।)

Watch related information below
(संबंधित जानकारी नीचे देखें।)



  • Share on :

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

आधुनिक काल (सन् 1843 स अब तक) भारतेंदु युग, द्विवेदी युग, छायावादी युग, प्रगतिवाद, प्रयोगवाद, नई कविता

हिन्दी साहित्य का इतिहास - आधुनिक काल (सन् 1843 स अब तक) भारतेंदु युग, द्विवेदी युग, छायावादी युग, प्रगतिवाद, प्रयोगवाद, नई कविता का युग।

Read more

भक्ति काल (सन् 1318 से 1643 ई. तक) || हिन्दी पद्य साहित्य का इतिहास || Hindi Padya Sahitya - Bhakti Kal

भक्ति काव्य धारा - [१] निर्गुण-भक्ति काव्य-धारा। (अ) ज्ञानाश्रयी निर्गुण भक्ति काव्य-धारा। (ब) प्रेंमाश्रयी निर्गुण-भक्ति काव्य-धारा। [२] सगुण भक्ति काव्य-धारा (अ) कृष्ण भक्ति धारा (ब) राम भक्ति धारा।

Read more

Follow us

Catagories

subscribe