An effort to spread Information about acadamics

Blog / Content Details

विषयवस्तु विवरण



Characteristics of Child Development बाल विकास की विशेषताएँ।

(1) विकास व्यक्ति या प्राणी में निरंतर चलने वाली प्रक्रिया है।

(2) विकास व्यक्ति के गर्भाधान से लेकर परिपक्वता की स्थिति तक होने वाले परिवर्तन है।

(3) विकास की दर सभी व्यक्तियों या प्राणियों में समान रूप से नहीं चलती।

(4) विकास के कारण होने वाले परिवर्तन अनुवांशिकी एवं वातावरण की वजह से सभी प्राणियों में भिन्न-भिन्न होते हैं।

(5) विकास एक क्रमिक व्यवस्था है, यह एक प्रगतिशील श्रंखला होती है।

(6) विकास एक बालक के संपूर्ण व्यक्तित्व में आए परिवर्तनों का कारण विकास के परिमाणात्मक एवं गुणात्मक परिवर्तन होते हैं।

(7) विकास का एक अंग वृद्धि, विवृद्धि या अभिवृद्धि होता है जिसमें शारीरिक अंग-प्रत्यंग के आकार का बढ़ाव शामिल है।

(8) विकास के परिणाम स्वरुप आए परिवर्तनों को प्रत्यक्ष रूप से देखा तो नहीं जा सकता किंतु मनोवैज्ञानिक विधियों द्वारा मापा जा सकता है।

(9) विकास शब्द किसी अंग विशेष अथवा व्यवहार के किसी एक पक्ष में होने वाले परिवर्तनों को नहीं बल्कि व्यक्तित्व में आने वाले सभी परिवर्तनों को संयुक्त रूप से व्यक्त करता है।

(10) विकास सार्वभौमिक प्रक्रिया है।

(11) विकास समनुगत (coherent), सुसंबद्ध एक-दूसरे से जुड़ा हुआ होता है। अतः विकास की प्रक्रिया में होने वाले परिवर्तनों में कोई न कोई क्रम अवश्य होता है और आगे आने वाले परिवर्तन पूर्व के परिवर्तनों पर आधारित होते हैं।

(12) विकास का लक्ष्य निश्चित होता है।

(13) विकास होने की दशा में व्यक्ति या बालक अनेक विशेषताओं एवं क्षमताओं या दक्षताओं का प्रादुर्भाव होता है।

(14) विकास आकस्मिक नहीं होता अपितु इसमें प्रत्येक अवस्था आगामी विकासात्मक क्रम के बीच निश्चित सुसम्बद्ध रहता है।

(15) विकास प्रगति का मापदंड है तथा इसका आरंभ शून्य से होता है।

(16) विकास दिशा बोध युक्त होता है। यह दिशा बोध आगे और पीछे दोनों ओर होता है और दिशा बोध से आशय प्रगति है और प्रगति का अर्थ का दिशा बोध युक्त होना है।

Characteristics of Child Development

(1) Development is a continuous process in a person or a person or creature.

(2) Development from conception of person changes occurring until maturity.

(3) The rate of development does not run the same in all persons are beings persons are beings.

(4) Changes due to evolution vary due to genetics and environment.

(5) Development is a gradual arrangement, it is a progressive series.

(6) Development in the overall personality of a child. The reasons for the changes are the quantitative and qualitative changes of development.

(7) An organ of development is growth, enlargement or growth, which involves the elongation of the size of thephysical organ.

(8) The changes resulting from development cannot be seen directly but can be measured by psychological methods.

(9) The term development is not the changes that occur in any one aspect of a perticular organ or behavior, but all that comes in the personality.

(10) Evolution is the universal process.

(11) Development is a coherently linked to each other. Therefore there is a sequence of changes in the process of development and the changes that follow are besed on the previous changes.

(12) The goal of development is fixed.

(13) In the event of development, a person or Child develops many characteristics and abilities or competencies.

(14) Development is not accidental, but in this, each stage is differently fixed between the subsequent development sequence.

(15) Development is the criterion of progress and it starts from zero.

(16) Development direction is perceptible. Thid direction perception is of both forward and backward and direction perception means the progress and the meaning of progress direction has to be understood.

RF competition
INFOSRF

I hope the above information will be useful and important.
(आशा है, उपरोक्त जानकारी उपयोगी एवं महत्वपूर्ण होगी।)
Thank you.
R F Temre
infosrf.com

Watch video for related information
(संबंधित जानकारी के लिए नीचे दिये गए विडियो को देखें।)

Watch related information below
(संबंधित जानकारी नीचे देखें।)



Download the above referenced information
(उपरोक्त सन्दर्भित जानकारी को डाउनलोड करें।)
Click here to downlod

  • Share on :

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बहुआयामी बुद्धि (Multi-Dimensional Intelligence) किसे कहते हैं | बहुआयामी बुद्धि सिद्धांत | बहुआयामी बुद्धि से लाभ

इस लेख में शिक्षक चयन परीक्षाओं की तैयारी हेतु बालविकास एवं शिक्षाशास्त्र के अंतर्गत बहुआयामी बुद्धि क्या होती है इसके बारे में विस्तार के साथ जानकारी दी गई है।

Read more

सौन्दर्य विकास (aesthetic development) क्या है? | सौन्दर्य विकास के सिद्धांत, लक्ष्य, विषय क्षेत्र, पाठ्यचर्या एवं गतिविधियाँ | सौन्दर्य विकास को प्रभावित करने वाले कारक

इस लेख में सौन्दर्य विकास (aesthetic development) क्या है? सौन्दर्य विकास के सिद्धांत, लक्ष्य, विषय क्षेत्र, पाठ्यचर्या एवं गतिविधियाँ और सौन्दर्य विकास को प्रभावित करने वाले कारकों के बारे में जानकारी दी गई है।

Read more

सृजनात्मक विकास (Srijnatmak Vikas) क्या है? | सृजनात्मकता (Rachanashilta) का महत्व | बच्चों की रचनाशीलता को प्रभावित करने वाले कारक

इस लेख में सृजनात्मक विकास क्या है? बालकों में इसके विकास का महत्व, बालक के सृजनात्मक विकास को प्रभावित करने वाले कारकों के बारे में विस्तार के साथ जानकारी दी गई है।

Read more

Follow us

Catagories

subscribe