An effort to spread Information about acadamics

Blog / Content Details

विषयवस्तु विवरण



विकास के स्वरूप (बाल विकास एवं शिक्षा शास्त्र)
Nature of development- Child Development and Pedagogy

(1) आकार में परिवर्तन (Change in the Size):–

बालक के शारीरिक विकास क्रम में आयु बढ़ने के साथ-साथ शरीर के आकार एवं वजन में निरंतर परिवर्तन होते रहते हैं।

(As the age progresses in the physical development of the child, there are constant changes in body size and weight.)

(2)आनुपातिक परिवर्तन (Proportional Change) :–

बालक के स्वरूप में परिवर्तन अनुपातिक होता है। मानव के शरीर में सभी अंग आनुपातिक रूप से परिपक्व होते हैं, अर्थात एक साथ अंगों में परिपक्वता नहीं आती हैं। इस तरह से बालक के विभिन्न विकास के दौरों में अनुपातिक परिवर्तन देखा जाता है।

(Changes in the appearance of the child are proportional. All organs in a human body mature proportionally, that is, organs do not come to maturity simultaneously. In this way, proportional changes are seen in the different developmental stages of the child.)

(3) पुराने स्वरूप में परिवर्तन (Changes in the Old Form) :–

जब बालक में नई विशेषताएं जागृत होती हैं, तो पुरानी विशेषताएँ गायब हो जाती हैं। जैसे बालक के दूध के दाँत, अस्पष्ट ध्वनियाँ, रेंगना, तुललाना, रोना आदि गुण समाप्त होने लगते हैं।

(When new features are awakened in the child, the old features disappear. As the baby's milk teeth, indistinct sounds, creep, cry etc. qualities begin to disappear.)

(4) नवीन गुणों की प्राप्ति (Acquisition of New Qualities)–

जब बालक विकास के क्रम में आगे बढ़ता है तब उसमें नवीन गुण जागृत होते हैं, जिनके दम पर वह अपने जीवन पथ में विभिन्न उपलब्धियों को प्राप्त करता है।

(When the child progresses in the order of development, then new qualities are awakened in him, on which he achieves various achievements in his life path.)

RF competition
NFOSRF.COM

I hope the above information will be useful and important.
(आशा है, उपरोक्त जानकारी उपयोगी एवं महत्वपूर्ण होगी।)
Thank you.
R F Temre
infosrf.com

Watch video for related information
(संबंधित जानकारी के लिए नीचे दिये गए विडियो को देखें।)

Watch related information below
(संबंधित जानकारी नीचे देखें।)



  • Share on :

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बहुआयामी बुद्धि (Multi-Dimensional Intelligence) किसे कहते हैं | बहुआयामी बुद्धि सिद्धांत | बहुआयामी बुद्धि से लाभ

इस लेख में शिक्षक चयन परीक्षाओं की तैयारी हेतु बालविकास एवं शिक्षाशास्त्र के अंतर्गत बहुआयामी बुद्धि क्या होती है इसके बारे में विस्तार के साथ जानकारी दी गई है।

Read more

सौन्दर्य विकास (aesthetic development) क्या है? | सौन्दर्य विकास के सिद्धांत, लक्ष्य, विषय क्षेत्र, पाठ्यचर्या एवं गतिविधियाँ | सौन्दर्य विकास को प्रभावित करने वाले कारक

इस लेख में सौन्दर्य विकास (aesthetic development) क्या है? सौन्दर्य विकास के सिद्धांत, लक्ष्य, विषय क्षेत्र, पाठ्यचर्या एवं गतिविधियाँ और सौन्दर्य विकास को प्रभावित करने वाले कारकों के बारे में जानकारी दी गई है।

Read more

सृजनात्मक विकास (Srijnatmak Vikas) क्या है? | सृजनात्मकता (Rachanashilta) का महत्व | बच्चों की रचनाशीलता को प्रभावित करने वाले कारक

इस लेख में सृजनात्मक विकास क्या है? बालकों में इसके विकास का महत्व, बालक के सृजनात्मक विकास को प्रभावित करने वाले कारकों के बारे में विस्तार के साथ जानकारी दी गई है।

Read more

Follow us

Catagories

subscribe